Indian History

सामाजिक व धार्मिक सुधार आन्दोलन

सामाजिक व धार्मिक सुधार आन्दोलन

(राजा राममोहन राय व ब्रह्म समाज )

० भारत में व्याप्त बुराईयों के खिलाफ आंदोलन चलाने वाले प्रथम भारतीय राजा राममोहन राय थे।

० उन्हें ‘अतीत व भविष्य के मध्य सेतु’ भारतीय राष्ट्रवाद का जनक व आधुनिक भारत का पिता कहा जाता है।

० उनका जन्म 1772 में गांव-राधानगर, बंगाल के एक ब्राह्मण परिवार में हुआ था और उनकी मृत्यु 1833 में ब्रिस्टल, इंग्लैण्ड में हुई।

० उन्होंने मूर्ति पूजा, सती प्रथा, बहुपत्नी प्रथा, जातिवाद की आलोचना की।

० राजा राममोहन राय ने 1815 में ‘आत्मीय सभा’ तथा 20

अगस्त, 1828 को ‘ब्रह्म समाज‘ की स्थापना की। राममोहन राय ने संवाद कौमुदी नामक समाचार पत्र का प्रकाशन किया। राजा राममोहन राय के प्रयासों से 1829 में सती प्रथा की समाप्ति लार्ड विलियम बैंटिक द्वारा की गई।

० 1850 में अकबर द्वितीय ने राजा राममोहन राय को ‘राजा’ की उपाधि से तथा बाद में सुभाष चन्द्र बोस ने ‘युगदूत’ की उपाधि से विभूषित किया।

(प्रार्थना समाज (1867 ई.))

० प्रार्थना समाज की स्थापना 1867 ई. में बम्बई में आचार्य केशवचन्द्र सेन की प्रेरणा से आत्माराम पांडुरंग द्वारा की गई थी।

० महादेव गोविंद रानाडे इस संस्था से 1869 में जुड़े।

० इस संस्था का प्रमुख उद्देश्य जाति प्रथा का विरोध, स्त्री-पुरुष की विवाह की आयु में वृद्धि, विधवा विवाह एवं स्त्री शिक्षा को प्रोत्साहन देना था।

(दयानन्द सरस्वती व आर्य समाज)

० स्वामी दयानन्द सरस्वती का जन्म 1824 में गुजरात के टंकारा ग्राम में हुआ था। उनके बचपन का नाम मूलशंकर था। उनके गुरु स्वामी विरजानन्द थे। उनकी मृत्यु 1883 में अजमेर में हुई थी।

० स्वामी दयानन्द ने 10 अप्रेल, 1875 को बम्बई मे आर्य समाज की स्थापना की।

० वे ‘शुद्धि आन्दोलन’ के प्रवर्तक थे। .

० दयानन्द सरस्वती ने ‘वेदों की ओर लौटों’ का नारा देते हुए वेदों को ‘भारत का आधार स्तम्भ’ बताया।

० वेदों के पुनरुत्थान का श्रेय स्वामी दयानन्द सरस्वती को है। आर्य समाज ने वेदों को सर्वश्रेष्ठ बताया तथा 10 सिद्धान्तों का प्रतिपादन किया। स्वामी दयानन्द को उनके धार्मिक सुधार प्रयासों के कारण ‘भारत का मार्टिन लूथर किंग’ कहा जाता है।

० एनी बेसेंट ने कहा था कि स्वामी दयानंद ऐसे पहले व्यक्ति थे जिन्होंने ‘भारत भारतीयों के लिए है’ का नारा दिया था।

(स्वामी विवेकानन्द व रामकृष्ण मिशन )

 ० स्वामी विवेकानन्द का जन्म 12 जनवरी, 1863 को कलकता के संभ्रांत कायस्थ परिवार में हुआ था। उनकी मृत्यु 4 जुलाई, 1902 को हुयी थी।

० उनका मूल नाम नरेन्द्रनाथ था। खेतड़ी के महाराजा ने इन्हें विवेकानन्द’ की उपाधि दी थी। .

० दक्षिणेश्वर के स्वामी कहे जाने वाले रामकृष्ण परमहंस के  स्वामी विवेकानन्द जी परम् शिष्य थे।

० 11 सितम्बर, 1893 को अमेरिका के शिकागो शहर में आयोजित विश्वधर्म सम्मेलन में स्वामी विवेकानन्द ने भारत का नेतृत्व किया।

  • 5 मई, 1897 को गुरु रामकृष्ण परमहंस की स्मृति में ‘रामकृष्ण मिशन’ की स्थापना की।
  • रामकृष्ण मिशन का कलकता के वेल्लूर और अल्मोड़ा के मायावती नामक स्थानों पर मुख्यालय खोला गया।
  • स्वामी विवेकानन्द को ‘भारत के देशभक्त संत’ की उपाधि से विभूषित किया गया।
  • सुभाष चन्द्र बोस ने विवेकानन्द को ‘आधुनिक राष्ट्रीय आन्दोलन का आध्यात्मिक पिता’ कहा था।
  • 1896 . में इन्होंने न्यूयॉर्क में वेदान्त सोसाइटी का गठन किया था।

० 1900 ई. में पेरिस में आयोजित द्वितीय विश्व धर्म सम्मेलन में . भी स्वामी विवेकानन्द ने भाग लिया था।

० राजयोग, कर्मयोग एवं वेदान्त फिलॉसफी उनकी प्रसिद्ध पुस्तकें हैं।

[थियोसोफिकल सोसाइटी )

 ० थियोसोफिकल सोसाइटी की स्थापना 1875 ई. में न्यूयॉर्क (अमेरिका) में मैडम ब्लावत्सकी तथा कर्नल हेनी ऑल्काट ने की थी। भारत में इसका मुख्यालय 1882ई. में अड्यार (मद्रास) में बनाया गया था। थियोसोफिकल सोसाइटी को भारत में प्रचारित एवं प्रसारित करने में आयरिश महिला ऐनी बेसेण्ट का विशेष योगदान था।

  • ऐनी बेसेण्ट ने 1898 में बनारस में सेन्ट्रल हिन्दू कॉलेज की स्थापना की थी जिसे 1916 ई. में मदन मोहन मालवीय ने बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय के रूप में विकसित किया था। ऐनी बेसेण्ट कांग्रेस के 33 वें अधिवेशन (कलकता, 1917) में प्रथम महिला अध्यक्ष बनी थी।

िंग बंगाल आन्दोलन

० यंग बंगाल आंदोलन का प्रवर्तक हेनरी विवियन डेरोजियो था। इस आन्दोलन की शुरूआत 1826–31 ई. में मध्य बंगाल से हुई।

19वीं सदी के सामाजिक सुधार,

o लार्ड विलियम बैंटिक के समय 1829 में नियम 17 के तहत – सती प्रथा को प्रतिबन्धित कर दिया गया।

o 1872 में नेटिव मैरिज एक्ट (सिविल मैरिज एक्ट) द्वारा अन्तरजातीय विवाह को मान्यता प्रदान की गई।

० दास प्रथा पर पूर्ण प्रतिबन्ध अंग्रेजी सरकार ने 1833 के चार्टर एक्ट द्वारा लगा दिया, 1843 में समूचे भारत में दासता को  अवैध घोषित कर दिया गया

० सत्यशोधक समाज की स्थापना ज्योतिबा फुलेसितम्बर, 1873 को किया गया, यह आन्दोलन दलितों और निम्न जाति के लोगों के कल्याण के लिए चलाया गया।

० ईश्वर चन्द्र विद्यासागर के प्रयासों से 1856 ई. में विधवा पनर्विवाह अधिनियम द्वारा विधवा विवाह को वैध करार दिया गया। 1930 ई. में शारदा एक्ट के तहत विवाह की न्यूनतम आय लड़कियों व लड़कों के लिए क्रमश: 14 वर्ष व 18 वर्ष का दी गई।

IMP.QUESTIONS

  1.  पश्चिमी शिक्षा का श्रीगणेश किस स्वतंत्रता सेनानी द्वारा किया गया? राजा राममोहन राय
  2. सामान्यत: किसे भारतीय पुनर्जागरण का जनक माना जाता है? राजा राममोहन राय
  3. आर्य समाज के संस्थापक कौन थे?- दयानन्द सरस्वती
  4. “थियोसोफिकल सोसाइटी’ के संस्थापक कौन थे? –मैडम ब्लावेट्स्की
  5. कलकत्ता में एशियाटिक सोसाइटी की स्थापना किसके द्वारा की गई? सर विलियम जोंस
  6. शारदा अधिनियम का संबंध किससे है?— बाल विवाह
  7. ‘वहाबी आंदोलन’ का मुख्य उद्देश्य क्या था–इस्लाम को परिशुद्ध करना
  8. स्वामी दयानंद सरस्वती ने प्रथम आर्य समाज 1875 ई. में कहाँ स्थापित किया था? —बंबई
  9. आर्य समाज’ के संस्थापक कौन थे? —दयानंद सरस्वती 10.रामकृष्ण मिशन की स्थापना किसने की थी? —स्वामी विवेकानन्द
  10. अंग्रेजों ने भारत में अंग्रेजी को शिक्षा का माध्यम कब बनाया था? –1835
  11. बुनियादी शिक्षा का विचार पहले किसने प्रस्तुत किया था? — महात्मा गांधी
  12. .अलीगढ़ आंदोलन का संस्थापक कौन था?सर सैय्यद अमद खां
  13. ‘प्रार्थना समाज’ का संस्थापक कौन था? आत्माराम पांडुरंग
  14. राजा राममोहन राय ने किसके विरुद्ध एक ऐतिहासिक आंदोलन का आयोजन किया था? सती प्रथा
  15. वीं शताब्दी में सबसे पहले शुरू किया जाने वाला सुधारआंदोलन कौनसा था? —ब्रह्म समाज  
  16. सत्य शोधक सभा के संस्थापक महाराष्ट्र में कौन थे? —ज्योतिबा फुले
  17. औपनिवेशिक भारत में भारतीय विधवाओं के लिए ‘शारदा सदन’ स्कूल की स्थापना किसने की? –पंडिता रमाबाई
  18. भारत में पुनर्जागरण आंदोलन का अग्रणी दूत थाराजा राममोहन राय।
  19. छ भारत का प्रथम ‘आधुनिक पुरुष’ किसे माना जाता है?–राजा राममोहन राय
  20. राजा राममोहन राय द्वारा स्थापित प्रथम संस्था थी-आत्मीय सभा
  21. .राजा राममोहन राय की समाधि है   ब्रिस्टल, इंग्लैण्ड
  22. राजा राममोहन राय द्वारा ब्रह्म समाज की स्थापना की गई 1828 ई.
  23. उन्नीसवीं शताब्दी के उत्तरार्द्ध में ‘नव हिंदूवाद’ (NewHinduism) के सर्वश्रेष्ठ प्रतिनिधि थे– स्वामी विवेकानन्द
  24. .विवेकानन्द ने शिकागो में आयोजित विश्व धर्म संसद (पार्लियामेंट ऑफ वल्डर्स रिलीजन्स) में भाग लिया था– 1893 में
  25. ‘रामकृष्ण मिशन’ की स्थापना 1897 ई. में किसने की थी?–स्वामी विवेकानन्द
  26. वेदों की ओर चलो’ किसने कहा था? —दयानंद सरस्वती
  27. ‘भारत का मार्टिन लूथर’ कहलाता हैस्वामी दयानंद सरस्वती
  28. ‘सत्यार्थ प्रकाश’ की रचना की गई थी —स्वामी दयानंद सरस्वती
  29. .किसने कहा था, ‘अच्छा शासन स्वशासन का स्थानापन्न नहीं –स्वामी दयानंद
  30. किस व्यक्ति ने सर्वप्रथम ‘स्वराज्य’ शब्द का प्रयोग किया और हिंदी को राष्ट्रभाषा माना?. — स्वामी दयानंद
  31. महाराष्ट्र में प्रार्थना समाज का मुख्य संचालक कौन था? . –एम.जी. रानाडे
  32. सर्वेन्ट्स ऑफ इण्डिया सोसाइटी का संस्थापक कौन था? –गोपाल कृष्ण गोखले
  33. किसने कहा कि ‘यदि भगवान अस्पृश्यता को सहन करते हैंतो मैं उन्हें कभी भगवान नहीं मानूंगा’? —बाल गंगाधर तिलक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *